Uttarakhand News: Carona से जंग लड़ रहे उत्तराखंड में सभी फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर सुरक्षित,122 स्वास्थ्य कर्मियों की रिपोर्ट नेगेटिव



Uttarakhand News

देश में कई जगह से फ्रंटलाइन हेल्थ वर्करों को कोरोना संक्रमण होने की खबरों के बीच उत्तराखंड से राहत भरी खबर है। 


उत्तराखंड के अलग-अलग अस्पतालों में कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टॉफ और सफाई कर्मियों की अभी तक कराई स्वास्थ्य जांच में किसी में संक्रमण नहीं पाया गया। राज्य में 122 स्वास्थ्यकर्मियों के कोरोना के टेस्ट कराए गए थे और सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। 

देश में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही मरीजों के इलाज में जुटे डॉक्टर, नर्स, टेक्नीशियन और सफाई कर्मियों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। सरकार की ओर से स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा के लिए पीपीई किट, एन 95 मास्क और अन्य कई सुरक्षा उपाय किए जा रहे हैं इसके बावजूद डॉक्टर, नर्स व अन्य फ्रंटलाइन वर्करों में संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। 

देशभर में सामने आ रहे ऐसे मामलों को देखते हुए राज्य के अस्पतालों में ड्यूटी कर रहे डॉक्टरों व अन्य स्वस्थ्य कर्मियों की भी लगातार जांच कराई जा रही है लेकिन राहत की बात यह है कि राज्य में अभी तक किसी भी स्वास्थ्य कर्मी तक संक्रमण नहीं फैला है। दून अस्पताल में मरीजों के इलाज में जुटे 70 के करीब स्वास्थ्य कर्मियों की अभी तक जांच कराई जा चुकी है। जबकि हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में 35 डॉक्टरों व अन्य स्टाफ की जांच कराई गई है। इसी तरह कोटद्वार  तीन और हरिद्वार जिले में 27 डॉक्टरों व अन्य कर्मचारियों की जांच कराई गई है।




        

      14 दिन की ड्यूटी के बाद क्वारंटाइन 

हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीपी भैंसोड़ा ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में कोरोना वार्ड में ड्यूटी कर रहे डॉक्टर व अन्य कर्मियों को 14 दिन ड्यूटी कराने के बाद होटल में क्वारंटाइन किया जा रहा है। इसके साथ ही सैंपलिंग भी हो रही है। दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना ने भी बताया कि कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे 70 से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों की अभी तक जांच कराई जा चुकी है। कुछ दिन की ड्यूटी के बाद कर्मियों को क्वारंटाइन किया जा रहा है। डॉक्टर व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के लिए परिवार से अलग रहने की व्यवस्था की गई है। 


कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे सभी डॉक्टर, नर्स और टेक्नीशियन का स्वास्थ्य हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके चलते इन लोगों का लगातार स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा रहा है। कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों को कुछ दिन की ड्यूटी के बाद अवकाश भी दिया जा रहा है। राज्य में नियमित रूप से स्वास्थ्यकर्मियों की जांच कराई जा रही है। सौभाग्य से किसी को भी संक्रमण नहीं हुआ है।

Post a Comment

0 Comments