Uttarakhand में आज मिले 43 Corona संक्रमित, कुल मरीजों की संख्या हुई 1985...




उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामले कम होने का नाम ही नहीं ले रहे। बुधवार को प्रदेश में 43 और कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं।इसके बाद अब प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1985  पहुंच चुका है। अपर सचिव स्वास्थ्य युगल किशोर पंत ने इसकी पुष्टि की है।
स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, अल्मोड़ा में 14, देहरादून में आठ, नैनीताल में आठ, टिहरी में नौ, रुद्रप्रयाग में दो और पौड़ी व उत्तरकाशी में एक- एक कोरोना संक्रमित केस आए हैं। प्रदेश में अब तक 1230 संक्रमित मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। जबकि अभी भी 717 एक्टिव केस हैं। जबकि अब तक 25 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हेा चुकी है।


दून मेडिकल कॉलेज सेंटर ऑफ एक्सीलेंस नामित


  कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज और सैंपलिंग में बेहतर कार्य करने पर केंद्र सरकार ने दून मेडिकल कॉलेज को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में नामित किया है। वहीं, स्वास्थ्य विभाग ने डॉ. अनुराग अग्रवाल को दून मेडिकल कॉलेज का नोडल अधिकारी बनाया है।

सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी की ओर से जारी आदेश के अनुसार केंद्र सरकार ने राजकीय दून मेडिकल कॉलेज को कोविड 19 क्लीनिकल मैनेजमेंट में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस घोषित किया है।

दून मेडिकल कालेज में कम समय में कोविड सैंपल जांच के लिए लैब स्थापित की गई और तेजी से सैंपलिंग की जा रही है। वहीं, कोरोना संक्रमित मरीजों को इलाज के बाद घर भेजने की परफॉरमेंस भी अच्छी रही है। मेडिकल कॉलेज के श्वसन औषधि विभागाध्यक्ष डॉ. अनुराग अग्रवाल को नोडल अधिकारी नामित किया गया।


प्रदेश में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार का संस्थागत क्वारंटीन पर फोकस है। एक दिन के भीतर प्रदेश में 766 लोगों को संस्थागत क्वारंटीन किया गया है। प्रदेश में वर्तमान में 11 हजार से अधिक लोग सरकार की ओर से की गई व्यवस्था में क्वारंटीन हो रखे हैं। 

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में संस्थागत क्वारंटीन किए गए लोगों की संख्या 11 हजार से अधिक पहुंच गई है। एक दिन के भीतर बाहरी राज्यों के रेड जोन से आए लोगों को अलग-अलग जिलों में संस्थागत क्वारंटीन किया गया है। 16 जून को प्रदेश में संस्थागत क्वारंटीन लोगों की संख्या 10409 थी। जो बुधवार को 11 हजार से अधिक हो गई है। 

अपर सचिव युगल किशोर पंत का कहना है कि बाहरी राज्यों के रेड जोन से आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से सात दिन का संस्थागत क्वारंटीन में रहना है। सात दिन के बाद 14 दिन होम क्वारंटीन में रहना होगा।


Post a Comment

0 Comments